उत्तरकाशी :बैंक से पत्नी को मिली बीमा की राशि , जय हो ग्रुप की पहल

उत्तरकाशी :बैंक से पत्नी को मिली बीमा की राशि , जय हो ग्रुप की पहल

 

उत्तरकाशी  सुनील थपलियाल 

सामाजिक चेतना की बुलंद आवाज “जय हो” ग्रुप के सदस्यों ने गडोली निवासी मृतक हर्षमणि बडोनी के परिवार को सहयोग की पहल की हुई थी ,यूनियन बैंक में बीमा की राशि जमा होने की जानकारी के बाद ग्रुप के साथियो ने शाखा प्रबंधक के साथ मिलकर इसमें परिवार को बीमा की राशि मिलने की पहल की , लगातार पत्राचार के बाद इसमें सफलता हाथ लगी है । शाखा प्रबंधक विवेक बलोनी ने जानकारी देते हुए बताया कि गडोली निवासी चालक हर्षमणि बडोनी का यूनियन बैक बड़कोट में खाता था और उनके खाते से प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना बीमा की राशि जमा हो रखी थी ,जय हो ग्रुप के सदस्यों ने संज्ञान में लाते हुए इसमें पत्राचार किया गया और प्रयास के बाद 2 लाख की राशि स्वीकृत हुई है जो हर्षमणि कि पत्नी संतोषी बडोनी के खाते में राशि भेज दी गयी है । उन्होंने बताया कि आम व्यक्तियों के लिए प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना का लाभ मिल रहा है सभी को अपने बैंक खातों में इस क़िस्त का ध्यान रखना चाहिए , सरकार की समय से की गई योजना का लाभ समय आने पर मिल ही जाता है ।उन्होंने कहा कि बैंकों में खाता जरूर खुलवाना चाहिए। स्व हर्षमणि की पत्नी संतोषी ने शाखा प्रबंधक और जय हो ग्रुप का आभार जताया है , जय हो ग्रुप अच्छा काम कर रहा है । इधर जय हो ग्रुप के संस्थापक सदस्य सुनील भाई ने यूनियन बैक के शाखा प्रबंधक विवेक बलोनी का आभार जताया की मृतक हर्षमणि बडोनी के परिवार को इस मदद से काफी रिलीफ पहुँचेगा , हर्षमणि के छोटे छोटे बच्चें है , परिवार के लालन पालन की जिम्मेदारी हर्षमणि पर थी , उन्होंने कहा कि जय हो ग्रुप हर्षमणि के परिवार के साथ है । और ग्रुप के साथी समय समय पर समाज के लिए कार्य में अहम भूमिका निभाते रहेंगे इसका विश्वास दिलाया। इस पहल में मोहित अग्रवाल, रणवीर सिंह रावत, उत्तम रावत, द्वारिका , जय प्रकाश, भगवती , नितिन चौहान , शशि मोहन , विवेक , सुनील ,आशीष , जय सिंह पंवार, विनोद , त्रिलोक , अमित , दीपक ,एम पी नौटियाल सहित दर्जनों लोग शामिल थे ।

  • Ground0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Purchase research paper on the web: just benefits

Purchase research paper on the web: just benefits