उत्तरकाशी : यमुनोत्री मार्ग बंद , डबरकोट बना वरुणावत , 400 से अधिक श्रदालु फसे , पत्थरों का गिरना जारी

उत्तरकाशी : यमुनोत्री मार्ग बंद , डबरकोट बना वरुणावत , 400 से अधिक श्रदालु फसे , पत्थरों का गिरना जारी

बड़कोट।

यमुनोत्री राष्ट्रीय राज मार्ग के डबरकोट ओजरी के पास वरूणावत जैसी स्थिति बनी हुई है। , एक पहाड़ी लगातार दरक रही है , बडे बडे़ बोल्डर पहाड़ी से निकल रहे है , यमुनोत्री धाम की यात्रा पर फिलहाल ब्रेक लग गया है , स्यानाचट्टी सहित यात्रा पड़ाव पर चार सौ से अधिक श्रद्वालु फंसे हुए है भले ही पुलिस ने तीर्थयात्रियों को तिरखली गांव के पैदल मार्ग से निकालने का प्रयास शुरू किया हुआ है , वही ओजरी गांव के ग्रामीणों ने एन.एच. 94 के डबरकोट में आधा दर्जन मकान और कई हैक्टियर भुमि चट्टानी मलवे में दवने के बाद मुआवजे को लेकर धरना शुरू कर दिया है। मौके पर एन.एच के अधिशासी अधिकारी , उपजिलाधिकारी , तहसीलदार और थानाध्यक्ष ग्रामीणों से वार्ता कर कुछ हल निकालते हुए रोड़ को खोलने का प्रयास कर रहे है।
मालुम हो कि यमुनोत्री नेशनल हाईवे के स्यानाचट्टी से 1 किलोमीटर पहले डबरकोट ओजरी में एक पहाड़ी से लगातार बडे बडे़ पत्थर और मलवा आ रहा है , बारीश में छोडियें धुप में भी पत्थरों के आने का सिलसिला जारी है। अभी तक 50 मीटर रोड़ के हिस्से में चट्टानी मलवा पसरा पड़ा है , एनएच की मशीने भी लगातार आ रहे पत्थरोें के चलते रोड़ नही खोल पा रहे है ।

धरना देते ग्रामीण

आपको बताते चले की डबरकोट में 2012 , 2013 में पहाड़ी से चट्टानी मलवा आया था जिसमें पाच लोगों की मलवे में दबकर मौत हो गयी थी और 2017 में विगत तीन दिनों से लगातार पहाड़ी दरक रही है और बोल्डर ओर मलवा आने का सिलसिला रूकने का नाम नही ले रहा है। ओजरी गांव के ग्रामीणों ने आधा दर्जन मकान के मलवे मे दबने और कई हैक्टियर भुमि दबने को लेकर मुआबजे की मांग शुरू कर दी है। और ग्रामीण मुआवजा मिलने के बाद ही रोड़ को खोलने देने की बात कर रहे है। इधर पहाड़ी से आ रहे मलवे को देखते हुए पुलिस ने यमुनोत्री आ रहे श्रद्वालुओं को यात्रा पर न जाने की हिदायत दी है। और जो जाने की जिदद कर रहे है उनको तिरखली गांव के पैदल मार्ग से यमुनोत्री भेजा जा रहा है। वही स्यानाचट्टी सहित अन्य पड़ाव पर लगभग 400 से अधिक श्रद्वालु फसंे हुए है जिन्हे तिरखली के रास्ते निकाला जा रहा है। अभी भी छ दर्जन से अधिक वाहन स्यानाचट्टी में रूके हुए है। एनएच के अधिशासी अभियन्ता ने बताया कि जब तक पहाड़ से पत्थर आने बन्द नही होगें तब तक मार्ग को खोलना असम्भव है भले ही मार्ग को खेालने के लिए दो जेसीबी और एक पुकलैण्ड को रखा गया है सम्भवतः मार्ग को दो दिन के भीतर खोल दिया जायेगा। थानाध्यक्ष विनोद प्रसाद थपलियाल ने बताया कि मार्ग बन्द होने की सूचना के बाद से दोनो ओर पुलिस के जवान और एसडीआरएफ के जवान तैनात किये हुए है तीर्थयात्रीयो को दिक्कत न हो इसके लिए व्यवस्था की गयी है , स्यानाचट्टी में लगभग 400 से अधिक श्रद्वालु है जिनको तिरखली पैदल मार्ग से निकाला जायेगा। इधर उपजिलाधिकारी मनुज गोयल ने बताया कि पहाड़ी से आ रहे पत्थरों के आने का सिलसिला जारी है जो श्रद्वालु यमुनोत्री धाम की ओर है उनको निकालने का प्रयास चल रहा है उनके लिए भोजन की व्यवस्था और ओजरी से बड़कोट तक वाहनो की व्यवस्था की गयी है। जल्द मार्ग को खोलने का प्रयास किया जायेगा।

  • Ground0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : राष्ट्रीय लोक अदालत में 77 मामलों का निस्तारण

बड़कोट। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में