उत्तरकाशी : सरकार हमारी भी सुनो -रास्ते नहीं ,पुलिया क्षतिग्रस्त ,ग्रामीण आफत में

उत्तरकाशी : सरकार हमारी भी सुनो -रास्ते नहीं ,पुलिया क्षतिग्रस्त ,ग्रामीण आफत में

बड़े हादसे की इंतजारी ,आफत में ग्रामीण

सुनील थपलियाल /उत्तरकाशी ।
पुरोला तहसील के सर बडियार में बरसात के आते ही आफत शुरू हो जाती है , 2013 की आपदा के बाद अलग थलग पड़े सर बडियार के आठ गांव मे मोटर रोड़ तो नही है परन्तु जो पैदल मार्ग है वह भी खस्ताहाल में है , पैदल पुलिया तक नही है जिससे ग्रामीण बरसात के आते ही गांव में ही कैद होकर रह जाते है। ग्रामीणों ने सर बडियार को जोड़ने वाले सम्पर्क मार्ग और पुलियाओं को बनाने की लम्बे से मांग की हुई है , परन्तु सुनने वाला कोई नही है। इतना ही नही मुलभूत सुविधाओं से कोसो दूर सर बडियार के ग्रामीण विकास की रोशनी के लिए मौहताज हो रखे है।

बडियार का सर गाव

मालुम हो कि पुरोला तहसील के सर बडियार के आठ गांव पौन्टी , कीमडार , कसलौं, गौल, डिगाड़ी, सर , छानिका और लेवटाड़ी सैकड़ो परिवार निवास करते है । 2013 की आपदा के बाद यहां पर सभी पैदल पुलिया बह गयी थी और दो पुलिया क्षतिग्रस्त हो रखी है इतना ही नही पैदल मार्ग क्षतिग्रस्त पड़े है जिससे ग्रामीणों को पहाड़ी के सहारे और बडियार नदी को पानी के बीच निकलकर या गिरे पड़े पेड़ के सहारे आवाजाही करनी पड़ती है , ग्रामीण जान जोखिम में डालकर हर रोज अपने रोजमर्रा के सामान को लेेने पुरोला या बड़कोट आते है । अगर कोई ग्रामीण बीमार हो जाता है तो उसे डण्डी के साहारे ग्रामीण सरनौल गांव तक लाते है जहंा से वाहन की मद्द से अस्पताल में उपचार के लिए लाया जाता है। क्षेत्र पंचायत सदस्य अरविन्द दास , कैलाश सिंह , धनवीर सिंह , भुपेन्द्र सिंह कहते है कि आजादी के कई दशक बीतने के बाद भी सर बडियार के ग्रामीणों को विकास की रोशनी नसीब नही हुई है। मोटर मार्ग तो छोड़िये आवाजाही के लिए पैदल मार्ग और पुलिया तक नही है और स्वास्थ्य , शिक्षा , पेयजल और विघुत व्यवस्थाओं का मिलना तो ग्रामीणों के लिए सपने के समान है। उन्होने बताया कि सर बडियार की बदहाल स्थिति को देखते हुए प्रशासन भी किसी बड़े हादसे की इन्तजारी कर रहा है।

सर बडियार को जाते ग्रामीण

ग्रामीणों ने मुख्यमन्त्री , जिलाधिकारी से सर बडियार के लिए पैदल मार्ग , पुलिया , शिक्षा, स्वास्थ्य , पेयजल और विघुत आपूर्ति किये जाने की मांग की है। इधर उपजिलाधिकारी एस.एस.नेगी का कहना है कि लगातार हो रही भारी बारीश को देखते हुए क्षेत्रीय राजस्व उपनिरीक्षक को सर बडियार भेजा गया है जो क्षेत्र के हालात का जायजा लेने के बाद रिपोर्ट सौपेगें और जो भी समस्या होगी उसका समय से निस्तारण कर दिया जायेगा।

  • Ground 0 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : नमामि गंगे और स्वच्छता अभियान बना मजाक , जोशियाड़ा और तिलोथ में गंदगी के ढेर

उत्तरकाशी  उत्तरकाशी में नमामी गंगे और भारत स्वच्छता