उत्तरकाशी : सालों से धुंल फांक रही जिला पुस्तकालय की पुस्तको का मिलेगा लाभ – अनुराग

उत्तरकाशी : सालों से धुंल फांक रही जिला पुस्तकालय की पुस्तको का मिलेगा लाभ – अनुराग

सुनील थपलियाल 
उत्तरकाशी ।

नगर पालिका के राजकीय इण्टर कालेज बडकोट में  जिला पुस्तकालय की हजारों किताबें धुल फांक रही है , विघालय प्रशासन ने एक कमरें में जिला पुस्ताकालय के फर्नीचर और पुस्तकों को बन्द किया हुआ है और कोई लाभ आम लोगों नही नही मिल पा रहा है । ‘‘जय हो‘‘ ग्रुप के पदाधिकारियों ने उपजिलाधिकारी को इसकी जानकारी दी जिसके बाद एसडीएम बड़कोट अनुराग आर्य ने इण्टर कालेज पहुंचकर लाईब्रेंरी का औचक निरीक्षण किया।
मालुम हो कि जिला पुस्तकालय की एक शाखा विगत 20 सालोें से बड़कोट में स्वीकृत है ,लेकिन उचित स्थल न मिलने से लाखों की पुस्तकें और फर्नीचर राजकीय इण्टर कालेज के एक कमरें में सालों से धुल फांक रही है। जय हो ग्रुप के सदस्य मोहित , उत्तम रावत, रणवीर सिंह रावत, सुनील थपलियाल , दिनेश , ओमकार, नितिन , भगवती रतुड़ी आदि ने उपजिलाधिकारी अनुराग आर्य को बताया कि कई सालों से जिला पुस्तकालय की एक शाखा बड़कोट में स्वीकृत है और लाखों की वेशकीमती पुस्तकंे आलमारियों में बन्द है और लाखों के फर्नीचर भी आये हुए है लेकिन उनका उपयोग नही हो पा रहा है , आम लोगों को बड़कोट में कोई शान्त जगह पर पुस्तकों के बाचनालय की व्यवस्था नही है जिसके बाद एसडीएम ने इण्टर कालेज का औचक निरीक्षण कर पाया कि लाखों की पुस्तकंे किसी के प्रयोग में नही आ रही है , उन्होने प्रधानाचार्य को उक्त पुस्तकालया को बड़े हाॅल में शिप्ट करने सहित आम लोगों को इसकी सुविधा पहुंचाने के जरूरी दिशा निर्देश दिये। उन्होेने कहा कि लाईब्रेंरी की बड़कोट मंे नितान्त आवश्यकता है और हमारें पास पुस्तकालय होने के बाद आम लोगों को लाभ नही मिल पा रहा है उन्होने प्रधानाचार्य को जल्द से जल्द इण्टर कालेज के बड़े हाॅल में उक्त पुस्तकालय को पढ़ने वाले बच्चों एंव पुस्तक प्रेमियों को सुविधा देने के निर्देश दिये। इस मौके पर प्रधानाचार्य जोधराम , राम आसरे सिंह चैहान, सुनील , दिनेश , भगवती , ओमकार , मोहित , उत्तम सिंह , रणवीर सिंह सहित दर्जनों लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

चमोली:थराली ILSPपोषित 2दिवसीय “हिलांस”कृषि मेले का हुआ शुभारंभ,

  संजय कुंवर थराली चमोली, एकीकृत आजीविका सहयोग