उत्तरकाशी :व्यवस्था पर चोट -स्कूल है पर बच्चों की संख्या शून्य,

उत्तरकाशी :व्यवस्था पर चोट -स्कूल है पर बच्चों की संख्या शून्य,

उत्तरकाशी ।

सर बडियार की शिक्षा व्यवस्था भी चैपट हो रखी है , ग्राम सभा पौन्टी के राजकीय जूनियर हाईस्कूल में स्कूल की बिल्डिंग तो है परन्तु बच्चों की संख्या शुन्य होने से स्कूल बन्द कर दिया गया है ये ही हाल प्राथमिक विघालय का है जहा पर एक बच्चा था जिसे पास के विघायल में प्रवेश दिलाते हुए प्राथमिक विघालय बन्द करने के आदेश जारी हो गये है।
मालुम हो कि सर बडियार के पौन्टी गांव में 14 लाख की लागत से जूनियर हाईस्कूल भवन का निर्माण हुआ था परन्तु विघार्थीयों की संख्या शुन्य होने से स्कूल बन्द कर दिया गया है और प्राथमिक विघालय में एक छात्र रह गया था जिसे पास के विघालय में पढ़ने लिए भेजा जा रहा है। ये ही हाल अन्य विघालयों में भी है जहंा पर किमडार गावं में 16 बच्चें, कसलौ गांव में 7 बच्चें , डिगाड़ी प्राथमिक विघालय में 26 और जूनियर हाईस्कूल में 12 बच्चें परन्तु जूनियर मे एक भी शिक्षक न होने की स्थिति में प्राथमिक विघालय के दो शिक्षक ही पढ़ाने को विवश है , सर गांव में प्राथमिक विघालय में 55 और जूनियर हाईस्कूल में 18 बच्चें है , दोनो विघालय की विल्डिंग जीर्ण स्थिति में है जबकि छानिका गांव में महज 5 बच्चें ही पंजीकृत है। ग्रामीणों का कहना है कि क्षेत्र मंे मुलभूत सुविधा न होने पर परिवार के परिवार पुरोला और बड़कोट में अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए पलायन कर चुके है और भविष्य में सरकार कुछ कदम नही उठाती है तो सभी विघालय बन्दी की कगार पर आ जायेगे। इधर ब्लाक उपशिक्षा अधिकारी डी.पी.पांडेय  कहते है कि सर बडियार में शिक्षा की दयनीय स्थिति है , पहले तो शिक्षकों को रहना यहां पर बड़ा भारी पड़ता है जो है भी वह बड़े मुश्किल से यहां पर शिक्षा देने का काम कर रहे है। पौन्टी गांव में विल्डिंग तो है परन्त्ु बच्चे ही नही है जिससे स्कूलों को बन्द किया गया । उन्होने बताया कि समय समय पर शिक्षा विभाग के अधिकारी भी मौके पर जाते रहते है और निरीक्षण कर शिक्षा व्यवस्था को सही करने का प्रयास कर रहे है।

  • Ground0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : देवलांग में विशाल ज्योति के दर्शन से मनोकामना होती है पूर्ण

सुनील थपलियाल उत्तरकाशी । यमुनाघाटी के गैर गांव