उत्तरकाशी : CM ने किया विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण

उत्तरकाशी : CM ने किया विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण

  • आशीष मिश्रा / उत्तरकाशी
मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने दो दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम के दौरान बुधवार को राजकीय कीर्ति इण्टर कालेज में आयोजित कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं का षिलान्यास एवं लोकार्पण किया। उन्होंने राश्ट्रीय स्वच्छता अभियान के अन्तर्गत रू0 590 लाख की लागत से उत्तरकाषी षहर स्थित केदार स्नान एवं मोक्षघाट, मणिकर्णिकाघाट, जड़भरत एवं मंगला स्नानघाट लागत रू0 758.54 लाख, इन्द्रावती भागीरथी संगम स्थित मोक्षघाट एवं तिलोथ पुल के बांये तट पर स्नानघाट लागत रू0 789.09 लाख, नेताला स्थित स्नानघाट का विस्तारीकरण लागत रू.542.68 लाख, विकास खण्ड डुण्डा में धरासू( जड़ीढुमका) स्थित स्नानघाट एवं मोक्षघाट लागत रू0 821.71 लाख, डुण्डा स्थित मोक्षघाट एवं नागेष्वर नाकुरी स्थित स्नानघाट लागत रू0 911.97 लाख, हीना स्थित स्नान एवं मोक्षघाट लागत रू0 666.23 लाख, मनेरी स्थित स्नानघाट, लागत 374.23 लाख रूपये का षिलान्यास किया। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने राश्ट्रीय ग्रामीण पेयजल आपूर्ति कार्यक्रम के अन्तर्गत निर्मित मुखवा पेयजल योजना लागत रू. 30 लाख, रूपये 17.25 लाख की लागत से निर्मित द्वारी पेयजल योजना, गंगोत्री धाम को ग्रिड से जोड़े जाने, भागीरथी नदी पर 157.5 मीटर स्पान का जोषियाड़ा झूलापुल, एस.पी.आर. के अन्तर्गत निर्मित राजकीय कृशि निवेष भण्डार भटवाड़ी का लोकार्पण किया।
इसके उपरांत जनता दर्षन में अपनी समस्याओं को लेकर आये लोगों के पास स्वयं जाकर मुख्यमंत्री नेे उनकी समस्याओं को सुना और उनसे उनके प्रार्थना पत्र भी लिए। मुख्यमंत्री ने फरियाद लेकर आये लोगों को आष्वासन दिया कि उनकी समस्याओं का अवष्य ही निस्तारण किया जायेगा। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री रावत ने अपने सम्बोधन में कहा कि उन्हें जो ज्ञापन मिले है उनमें खासकर आंगनबाड़ी, षिक्षकों, संविदा कर्मियों के साथ ही स्कूल, कालेजों में षिक्षकों की कमी के आये है जो एक चिंता का विशय है। विद्यालयों में षिक्षकों की कमी पर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी एवं मुख्य षिक्षा अधिकारी को निर्देष दिये कि दो हफ्ते के भीतर प्रत्येक विद्यालयों में रिक्त षिक्षकों के पदों पर तैनाती कराये जाने के लिए कार्रवाई करें। कहा कि कोई विद्यालय षिक्षकविहीन न हो। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की मंषा है कि उत्तराखण्ड षिक्षित हो। वर्श 2019 तक उत्तराखण्ड में एक भी व्यक्ति अषिक्षित न रहे। षिक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में है। उन्होंने कहा कि जब वे अगली बार उत्तरकाषी आयेंगे तो षिक्षकों की कमी की षिकायत नहीं आनी चाहिये। उन्होंने कहा कि जनता और सरकार जब मिलजुल कर कार्य करती है तो दोगुना विकास होता है। उन्होंने कहा कि प्रदेष सरकार ने भ्रश्टाचार पर अंकुष लगाने के पूरे प्रयास कर रही है। ईमानदारी से कार्यो का निश्पादन होना चाहिये।
जनपद में वर्श 2012 एवं 2013 की आपदा के कई मामलों की षिकायत मिलने पर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को निर्देष दिये है कि यदि आपदा मानकों के अन्तर्गत कोई मामला नहीं आता है तो सम्बन्धित व्यक्ति को स्पश्ट आदेष निर्गत किया जाय। कोई भी समस्या अधिक दिनों तक लटकनी नहीं चाहिये। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार अब सेवा का अधिकार अधिनियम में दण्ड का प्राविधान करने जा रही है। मुख्यमंत्री ने वनाग्नि को रोकने के लिए पिरूल की पŸिायों को इक्कठा करने के काम को मनरेगा से जोड़ा जाएगा। पिरूल की पŸिाया खरीदने के लिए प्रत्येक ब्लाक में सेंटर खोले जायंेगे। यह कार्य वन पंचायतों के माध्यम से करवाया जायेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कृशि के क्षेत्र में रोजगार के बहुत अवसर है। बेहतर कृशि के लिए चकबंदी कोे अपनायें। इसका अच्छा प्रबन्धन करें। उन्होंने काष्तकारों को चकबंदी अपनाने के लिये पे्ररित किया। सरकार इसके लिए हर संभव सहायता करेगी। जल संचय के सम्बन्ध में उन्होंने जलगांव का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां जल संचय की जो विधि अपनायी जाती है, उन तरीकों को सीखने के लिए यहां से काष्तकारों की टीम बनाकर भेजा जाय।
इस दौरान मुख्यमंत्री ने पुरोला विधान सभा में सड़को के लिए 10 करोड़ रूपये देने की घोशणा की। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने विकास खण्ड नौगांव के कफनौल गांव के प्रगतिषील कृशक सब्बल सिंह, चिन्यालीसौड़ बादसी के चमन प्रकाष नौटियाल, विकास भटवाड़ी के ग्राम मल्ला के जगवीर सिंह, तथा सिंगोट गांव के उमेद सिंह को किसान भूशण से सम्मानित कर प्रत्येक को पचीस- पचीस हजार की धनराषि पुरस्कार स्वरूप दी गयी। मुख्यमंत्री के हाथों डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के तहत कैषलेस लेनदेन को बढावा दने के लिए विभिन्न बैंको के द्वारा पाॅष मषीनों का वितरण करवाया गया। पाॅष मषीन मोनाल टूरिस्ट होम, धवन कम्यूनिकेषन,, संजय इलेक्ट्रानिक्स, एवं पंवार ज्वैलर्स को प्रदान की गयी। मुख्यमंत्री ने पर्यटन विभाग द्वारा प्रकाषित काफी-टेबल बुक का लोकार्पण भी किया।
इससे पूर्व, मुख्यंमत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार प्रातः विष्वनाथ मंदिर में पूजा अर्चना की। इसके उपरांत उन्होंने केदारघाट मे आयोजित स्वच्छता अभियान में प्रतिभाग कर लोगों को स्वच्छ भारत अभियान में भरपूर सहयोग देने की अपील की। स्वच्छता अभियान में काफी संख्या में लोगों ने प्रतिभाग किया।
  इस अवसर पर भाजपा प्रदेष अध्यक्ष श्री अजय भट्ट, विधायक गंगोत्री श्री गोपाल सिंह रावत, यमुनोत्री श्री केदार सिंह रावत, पुरोला श्री राजकुमार आदि उपस्थित थे।
  • GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मानसून को लेकर BRO ने कसी कमर, चारधाम सड़को पर एक्टिव डेंजर जोन पर पर होगा काम

 मानसून को लेकर BRO ने कसी कमर चारधाम