एशिया की खूबसूरत औली राेप-वे फिर हुई पर्यटकाें से गुलजार

एशिया की खूबसूरत औली राेप-वे फिर हुई पर्यटकाें से गुलजार

  • संजय कुंवर / जाेशीमठ

एशिया की सबसे बेहतरीन रज्जू मार्गाे में शुमार जाोशीमठ औली राेप वे एकबार फिर से पर्यटकाें की बम्पर आवाजाही के चलते इनदिनाें गुलजार हाे चला है,औली में बर्फबारी नही हाेने के बावजूद देश के काेने काेने से पर्यटक प्रतिदिन जाेशीमठ से औली के लिये राेप वे के सफर का लुफ्त उठानें सुबह से ही लम्बी कताराें में लगे राेप वे टिकट काऊंटराें में देखे जा रहे है।

आलम ये है कि पर्यटकाें काे शिफ्ट देनें में काफी मशक्कत करनी पड रही है राेप वे प्रबंधन काे, हालांकि पर्यटक वाहनाें से भी काफी तादाद में औली की सैर करने पहुच रहे लेकिन एशिया की सबसे ऊची और लम्बी राेप वे क् सफर का आन्नद और 3.96किमी० राेप की दूरी और 4.5 किमी० ट्रैक दूरी का हवा में राईडिंग का साहसिक अनुभव का मजा लेने के लिये पर्यटक प्रति टिकट रु० 750देने में भी नही हिचक रहे है।

बडती भीड स् जहां राेप वे प्रबधन काे काफी राजस्व मिल रहा ताे पर्यटकाे की आमद से स्थानीय गाईडाें सहित हाेटल ढाबा चलानें वाले युवाओ की आर्थिकी भी बढ रही है,जिससे पर्यटन व्यवसाय पटरी पर चलनें लगा है वही इस राेमांचक राेप वे के सफर का मजा लेनें थाडूमल शाहनी कालेज आफ इंजीनियरिंग पुणे मुम्बई के 49छात्र-छात्राओं का दल भी जाेशीमठ पहुचा औली राेप वे की सैर करने गाेरसाें तक पथाराेहण कर राेंमाचित हुये सब,टीम प्रभारी अध्यापक सिद्धार्थ टैंम्बे,रेणुका गाेविन्दवानी,और महक अग्रवाल है कहना है कि जितना सुना पढा था उससे कई ज्यादा प्रकृति का अनमाेल उपहार मिला हमें औली गाेरसाें आकर हम हिमालयी बुग्यालाें की महक और श्वेत धवल चाेटियाें के आकर्षण में खाे गये है।

इस कालेज की छात्रा अपराजिता किशाेर और शैलजा सिंह भी जाेशीमठ औली राेप वे राईड के सफर का लुफ्त उठा काफी खुश नजर आई कहा कि जितनी भी बर्फ उन्हें देखने काे मिली वाे काफी है मुम्बई से यहां आये हिमालय काे बेहद करीब से आज महसूस किया है, वही छात्र पाेरष और वरुण भी औली गाेरसाें ट्रैक की सुन्दरता पर माेहित हाे गये कहा कि नन्दादेवी पर्वत कामेट काे उन्हाेने कई किताबाे और ब्लाैगाें में पढा है लेकिन असली मजा उन्हे गाेरसाे से अपनी आंखाें से देखकर महसूस करना हाेता है जाे हमने जमकर मजे लिये।

  • GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : विपिन बने असिस्टेंट कमांडेंट , जनपद का नाम किया रौशन

उत्तरकाशी सीआरपीएफ़ की आंतरिक सुरक्षा अकादमी माउंट आबू