एस.ओ. संतोष की कार्यप्रणाली की सी.ओ. करेंगे जांच

एस.ओ. संतोष की कार्यप्रणाली की सी.ओ. करेंगे जांच

उत्तरकाशी ।

स्यालब गांव में  युवक की आत्महत्या के मामले में कोताही बरतने के आरोपों में घिरे बड़कोट थानाध्यक्ष संतोष कुंवर के खिलाफ एसपी ने सीओ यमुनाघाटी को जांच सौंपी है। पूर्व में भी कई मामलों में सवालो  के घेरे में आये एसओ के हर पहलु की जांच का भरोसा सीओ ने दिलाया है।
बीती 19 अप्रैल को स्यालब गांव में रोशन (18) पुत्र लखमी चंद ने आत्महत्या कर सुसाईड नोट में भंसाड़ी के शरत सहित 10-12 अन्य को जिम्मेदार ठहराया था। जिसमें से पुलिस ने मात्र शरत को जेल भेजा। बाकी पर लंबा समय बीतने के बाद भी कार्यवाही नहीं की। जिससे खफा ग्रामीणों ने एसओ संतोष पर मिलीभगत का आरोप लगाकर एसडीएम कार्यालय में बीत दिनों जमकर हंगामा काटा और एसओ की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाये। जिस पर तत्काल मामले की जांच एसओ संतोष से छीनकर एसओ पुरोला बीएस चैहान को दी गई। मामले की गंभीरता को देखते हुये एसपी ददन पाल ने एसओ की जनविरोधी कार्यप्रणाली की जांच सीओ को सौंपी है। सीओ जीएन कोहली ने माना की एसओ के कई मामलों की शिकायतें हैं। एसपी के जांच सौंपने के बाद आत्महत्या मामले सहित विभिन्न पहलुओं पर एसओ संतोष की कार्यप्रणाली की जांच की जायेगी।

पूर्व से विवादों में रही है एसओ की कार्यप्रणाली

पूर्व में शराब माफियाओं के साथ तस्करी में संलिप्तता, एक व्यापारी की बेरहम पिटाई जिस पर थानाध्यक्ष का घेराव, मीडीया कर्मियों से दुव्र्यवहार व मनमानी कार्यप्रणाली के लिए खासे विवादास्पद एसओ संतोष कंुवर रहे हैं। बीते विधानसभा चुनावों में भी शराब तस्करी की शिकायतें स्थानीय लोगों ने एसपी ददन पाल को अवगत कराया था कि एसओ की भूमिका सवालों में हैं। जिसे लेकर एसपी ने एसओ का पर्सनल वाहन यूज न करने की सख्त हिदायत दी थी।इतना ही नहीं एस.ओ. द्वारा एक ठेकेदार से सुविधा शुल्क की मांग किये जाने की शिकायत पर यमुनोत्री विधायक केदार सिंह रावत भी   जम कर फटकार लगा चुके है ।

  • Ground0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Purchase research paper on the web: just benefits

Purchase research paper on the web: just benefits