कलगोठ:बर्फबारी में आस्था भारी,कन्दुडिया जाख देवता के “ध्याणी भात्तू” मैं पहुँची धियाणीया,

कलगोठ:बर्फबारी में आस्था भारी,कन्दुडिया जाख देवता के “ध्याणी भात्तू” मैं पहुँची धियाणीया,

  • संजय कुंवर कलगोठ जोशीमठ
    सीमांत विकास खंड जोशीमठ के दूरस्थ ग्राम कलगोठ मैं इन दिनों पौराणिक सांस्कृतिक यक्षराज देवता “कंधोड्या जाख” का देवरा महोत्सव अपने अंतिम चरण में है यहां के भू देवता यक्ष् राज जाख अपनी6माह की देवरा यात्रा में गाँव की सभी धियानियों के ससुराल छेत्र में घूमकर उनको दर्शन देते हुए उनसे धियानि भत्तू लेने के उपरांत अब अपने मूल निवास स्थान पर विराजने वाले है,श्री गणेश भात्तू से शुरू हो गया है शनिवार को कल्गोठ गांव में हर्षोल्लास के साथ नारायण भात्तू प्रसाद का आयोजन किया गया जिसमे गांव की सभी बेटियों धियानियों और उनके नौनिहालों में काफी उत्साह देखा गया,इस आयोजन में शरीक होने के लिए दूर दूर से गाँव की धियाणीया खराब मौसम और बर्फ से भरे रास्तों की फिक्र किये बगेर लंबी दूरी नापकर अपने मायके यक्ष् देवता के भात्तू उत्सव में आ रहे है,वही खराब मौसम के बावजूद आज बृह्मा भात्ता का आयोजन किया गया,बता दें की केदार खंड में 60 यक्षराज जाख देवताओं मे सबसे बड़े भाई डुमक् गांव के बजीर देवता है और सबसे छोटे जाख भाई थेंग गांव में विराजमान है,कल्गोठ गाँव में जाख देवरा में अब कल ब्रह्म देवता के नाम पर भातु ,4मार्च को इंद्र देव के नाम,5मार्च को बसुकी नाग,6को मां नंदा भत्ता, इसके बाद चंडिका देवी भत्ता,पांच खोल्या पुजारी भात्तू, के बाद आखिर में 9मार्च को धियानि भातू का आयोजन होंना है,इसी दिन नेउतरू का आवागमन होगा,10मार्च ko आखिरी दिन जोसु खडवाल नारद भातु ke साथ ही 5बजे शाम से धारी की बिदाई होगी,जिसके लिए यक्ष् देवता अपनी धियानियो ke समक्ष आएंगे और सबको खुशहाली का आशीष देंगे, वही 11मार्च को यक्ष देवता अपनी गद्दी में बिराजमान हो जायेंगे,तो वन जागरि पूजन के साथ श्री सम्वाद भोज प्रसाद का आयोजन होगा और इसके बाद इस पोरांनीक यक्षराज जाख देवरे का समापन होगा।
  • Ground0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Purchase research paper on the web: just benefits

Purchase research paper on the web: just benefits