पर्यटकों से गुलजार हो रहा राजाजी पार्क : पर्यटन को पटरी पर लाने में जुटे पर्यटन व्यवसायी

पर्यटकों से गुलजार हो रहा राजाजी पार्क : पर्यटन को पटरी पर लाने में जुटे पर्यटन व्यवसायी

 

  • ऋषिकेश

उत्तराखंड अपनी सुन्दरता और विशिष्टा के लिए पूरे अपनी विशेष पहचान रखता है, यहाँ के प्राक्रतिक नज़ारे नदी ,पहाड़ ,झरने और बुग्याल किसी का भी मन मोह लेते है ,इसलिए इसे देव भूमि कहा जाता है। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये एक बार फिर राजाजी  टाइगर रिजर्व सैलानियों के लिए खुल चूका है, और रोजाना पार्क में सैर सपाटे के लिए पर्यटक दूर दूर से राजाजी नेशनल पार्क में पहुंच रहे है ऋषिकेश के मोतीचूर रेंज में स्तिथ राजाजी  टाइगर रिजर्व की पर्यटन छेत्र में अपनी एक अलग पहचान है, यहाँ हर सीजन में हजारों सैलानी वाइल्डलाइफ एडवेंचर का लुफ्त उठाने आते है।

बरसात के बाद एक बार फिर शीतकालीन के लिए इस पार्क को पर्यटकों के लिए खोला जा चूका है, सिर्फ देश से ही नहीं बल्कि विदेशों से भी पर्यटक इस पार्क का लुफ्त उठाने यहाँ का रुख करते दिख रहे है। पर्यटकों की माने तो उन्हें राजाजी  टाइगर रिजर्व में जंगल सफारी करना बेहद पसंद है, और वो यहाँ काफी एडवेंचर महसूस करते है उत्तराखंड के सभी पर्यटक स्थल अब अपनी नयी खुबसुरती को ओढ़ कर पर्यटकों के लिए तैयार हो गए राजा जी पार्क में नया जीवन अंगडाई लेने लगा है , छोटे जीव जंतु अपनी असीम खुबसुरती के साथ प्रक्रति से कदमताल कर रहे है ।

इसके साथ साथ यहाँ पहुँच रहे पर्यटकों से यहाँ के युवाओं को रोजगार भी मिल रहे है। पर्यटक यहाँ जंगल सफारी के साथ साथ टाइगर और हाथी को देखने के लिए भी काफी उत्सुक नजर आरहे है. वहीँ राजाजी टाइगर रिजर्व के रेंजर राजेंदर नौटियाल का कहना है की यहाँ पर्यटक बड़ी संख्या में पहुंच रहे है और उन्हें हर सुविधा मिल सके इसके लिए पार्क प्रशाशन द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे है.शीतकाल शुरू होते ही एक बार फिर उत्तराखंड के राजाजी  टाइगर रिजर्व ने नया प्राकीर्तिक श्रंगार कर लिया है ,अगर आप भी इन नजारों का करीब से लुफ्त उठाना चाहते है तो चले आईये उत्तराखंड यहाँ के प्राक्रतिक नज़ारे आपका बेसब्री से इंतज़ार कर रहे है ।

  • GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

किशन महिपाल : संघर्षों से फूटे सुर, अंतिम गांव से लेकर सात समंदर पार तक लोकसंस्कृति को दे रहें है नया मुकाम

 संजय चौहान (लोकसंस्कृति/ बोली भाषा/ जनसरोकारों की ३५