प्रदेश में धूम धाम से मनाया गया हरेला पर्व

प्रदेश में धूम धाम से मनाया गया हरेला पर्व

  • उत्तरकाशी

हरेला पर्व के मौके पर तहसील डुण्डा के अन्तर्गत खट्टुखाल गदेरे के संरक्षण एवं पुनर्जीवन हेतु जिलाधिकारी डा. आशीष.कुमार श्रीवास्तव ने अनार का फलदार पौधा लगाकर किया वृक्षा रोपण कार्यक्रम का शुभारंभ,इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी, डीएफओ, अपर जिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारी, कर्मचारी, प्रेस, जन प्रतिनिधि, आईटीबीपी एवं वन विभाग ने की वृहद वृक्षारोपण।

दूसरी ओर कलक्ट्रेट परिसर में जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी, डीएफओ एवं अपर जिलाधिकारी ने शोभाकार पौधा लगाकर सभागार में आयोजित हरेला सांस्कृतिक कार्यक्रम/ बैठक में प्रतिभाग कर उपस्थित सभा को सम्बोधित किया।
इस अवसर पर स्कूली छात्र- छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति दी।

  • जोशीमठ से नितिन सेमवाल 

हरेला कार्यक्रम के तहत भाजपा ने रोपे पेड,जोशीमठ जोगीधारा के पास पेड लगा कर हरेला पर्व मनाया इस दौरान पूर्वनगर पालिका अध्यक्ष रामकृष्ण रावत, रिषी प्रसाद सती,किशोर पंवार, अमित सती, लछमण फरकिया, मुकेश कुमार, भगवती प्रसाद, मुकेश डिमरी कुलदीप रविन्द साह, विकेश, श्रीमती कांता साह, देवेश्वरी देवी आदि ने पेड लगाये
शंकराचार्य ने किया वृछा रोपण, जोशीमठ आदिगुरु शंकराचार्य वासुदेवा नंद सरस्वती महाराज ने सावन के पहले दिन पौधा रोपण कर सबको हरियाली लाने का संदेश दिया अपने पौराणिक मठ में शिष्यों और पीठ पुरोहित के साथ शंकराचार्य ने पौधों का रोपण किया |

  • मधुसूदन जोशी / गौचर(चमोली)

हरियाली दिवस पर गायत्री परिवार कर रहा है सड़कों के किनारे वृक्षारोपण।

कोशिशें रंग लाई तो बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर तीर्थयात्रियों के साथ साथ स्थानीय जनता भी शुद्द पर्यायवरण से समृद्ध होगे। यही प्रयास गायत्री परिवार की टीम कर रही है। अभी तक परिवार ने पीपल, बट्ट, हेड़ा सहित कई वृक्षों का रोपड किया है। सदस्य बताते है कि वे पौधों की निराई, सिंचाई करते है जबतक पूर्ण विकसित नही हो जाता। वृक्षारोपण कर रहे सदस्य बताते है कि पूर्व मे हमारे ऋषि मुनियों ने इन वृक्षों के नीचे बैठकर ज्ञान प्राप्त किया लेकिन आज युवा पीढ़ी ज्ञान तो अर्जित नही कर रही लेकिन नशे के अड्डे के रूप मे प्रयोग कर रही है ये दुखद है, साथ ही पौधों की सुरक्षा हेतु लगाई गई जालियाँ भी चोरी की जा रही है।

 

  • GROUND 0

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मसूरी में श्रीदेव सुमन को किया गया याद

 सुनील सोनकर / मसूरी  मसूूरी श्रीदेव सुमन विचार