औली: बर्फीले स्लोप पर शुल्क वसूली बवाल : प्रदेश सरकार का पुतला फूँका

औली: बर्फीले स्लोप पर शुल्क वसूली बवाल : प्रदेश सरकार का पुतला फूँका

- in अन्य
104
0

●सँजय कुंवर, जोशीमठ
औली (जोशीमठ)।अंतराष्ट्रीय हिमक्रीड़ा स्थली औली की खूबसूरत बर्फीली ढलानों की बर्फ मे विचरण के लिए पर्यटकों और स्थानीय पर्यटन कारोबारियों को अब भारी शुल्क देना पड़ेगा ज़ी हाँ जबसे यह तुगलकी फरमान विंटर स्पोट्स सेंटर औली में लागू हुआ है तबसे यहां की हसीन वादियो का माहौल गर्मा उठा है और सरकार के इस फ़ेसले की यंहा कड़ी आलोचना हो रही पर्यटन विभाग के इस फ़ेसले पर औली मे माहौल गरमाया है।

पर्यटन व्यवसाय से जुड़े तमाम लोकली टूर ऑपरेटरो स्कीयारो और टूरिस्टों नें मिलकर इस फरमान क़ा विरोध करते हुए औली मे आज प्रदेश सरकार क़ा पुतला फूँक जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किया है वही बढ़ते वीरोध को देखते आनन फानन में gmvn के जीएम साहित आला अधि कारी भी औली पहुच गए और विरोध प्रदर्शन करने वाले लोकल टूर ऑपरेटरों और स्कीयारो से वार्ता करने पहुचे और आश्वसन दिया की फ़िलहाल इस फीस वसूली अभियान पर रोक लगाते हुए शासन को अवगत करते हुए स्थगित करने की सिफारिश करेंगे तब कही यह मामला ठंडा हुआ ।
जी हाँ सूबे के पर्यटन महकमें द्वारा लगाए गए इस टैक्स वसूली के फरमान का औली में जोरदार विरोध शुरू हो गया है।

आज यंहा पर्यटकों व पर्यटन से जुड़े सभी लोकल टूर ऑपरेटरों स्कीईग से आजीविका चलाने वाले स्थानीय युवाओं के साथ मिलकर कोंग्रेसियों नें भी इस सरकर के फरमान का जर्बदस्त विरोध कर हिमक्रीड़ा स्थली औली में प्रदेश सरकार का पुतला फूंक अपना विरोध दर्ज किया और क़हा की इस फरमान को जल्द वापस नहीं लिया गया तो औली में जबरदस्त जन आंदोलन छेड़ा जायगा
विश्व विख्यात हिमक्रीडा केन्द्र औली के स्कीइंग स्लोप पर विचरण करने के इच्छुक पर्यटको व स्थानीय लोगो से शुल्क लिए जाने के फरमान के बाद औली की शीतवादियों मे गर्माहट ला दी है।

एडवेंचर एशोसिएशन जोशीमठ के पदाधिकारियों ने स्कीइंग स्लोप पर पंहुचकर निगम कर्मियों को शुल्क वसूली किए जाने से रोका। पर्यटको ने भी बर्फ मे घूमने का टैक्स लिए जाने पर अपना विरोध जताते हुए शुल्क नही दिया।
दरसअल शासन के पर्यटन महकमे ने जीएमवीएन को निर्देशित करते हुए कहा था कि औली मे स्कीइंग स्लोप पर जाने वाले पर्यटको से पाॅच सौ रूपया व स्थानीय लोगो से दो सौ रूपया शुल्क लिए जाने का आदेश जारी किया था। आदेश के औली पंहुचने पर निगम कर्मी भी स्वय को असहज महसूस करने लगे थे।

लेकिन उच्चाधिकारियों के आदेश का अनुपालन करने जैसे ही निगम कर्मी स्लोप के पास शुल्क वसूली के लिए पंहुचे तो न केवल स्थानीय लोगो ने ब्लकि पर्यटको ने भी इस तुगलगी फरमान का जोरदार विरोध कर डाला। स्थानीय लोगो व पर्यटको का विरोध बढता देख निगम कर्मियों ने स्लोप से भागना ही उचित समझा।
एडवेचरं एशोसिएशन जोशीमठ के अध्यक्ष प्रख्यात स्कीयर्स विवेक पंवार ने कहा कि पर्यटन विभाग को यह बहुत गैर जिम्मेदाराना फरमान है।

इससे कतई नही लग रहा है कि राज्य का पर्यटन महकमा राज्य मे पर्यटन को बढावा देना चाहता है।यंहा औली में सुविधाए नहीं है टूरिस्ट को यंहा पनि नही मिलता टोइलेट सुविधा नही है मेडिकल फेस्लिटि नही संचार नही कोइ बेठने को पार्क नही केसा पर्यटन प्रदेश है ये जंहा के अधिकारी पर्यटन स्थलों मे बढ़ती भीड़ को देखकर वसूली का फरमान जारी करते क्या यही पर्यटन विकास है
इस प्रकार के फरमान से तो उभरते शीतकालीन क्रीडा केन्द्र की पर्यटन गतिविधियों पर दुष्प्रभाव पडना निश्चित है।


स्कीइंग के क्षेत्र मे इंटर नेशनल लेवल पर कई देशो मे भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके विवेक पवांर ने कहा कि स्कीइंग के लिए विश्व के दस से बारह देशो मे जा चुके है। लेकिन किसी भी देश मे बर्फ मे विचरण करने का टैक्स नही लिया जाता। लेकिन यदि शीतकालीन पर्यटन को समाप्त करने की साजिश के तहत इस प्रकार का टैक्स लिया जाऐगा तो इसका पुरजोर विरोध किया जाऐगा। कहा कि आज एडवेंचर एशोसएिशन के साथ होटल एशोसिएश व एडवेचर से जुडी अन्य संस्थाओ के साथ औली मे इसी मुद्दे को लेकर विरोध किया गया है।

● TEAM GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Sample Dissertation on How websites Has Infected the Music Market

Sample Dissertation on How websites Has Infected the