टूटा श्रमिकों के सब्र का बांध : यदि मांगे पूरी नही हुई तो सबक के लिए तैयार रहे सरकार

टूटा श्रमिकों के सब्र का बांध : यदि मांगे पूरी नही हुई तो सबक के लिए तैयार रहे सरकार

- in अन्य
208
0

● सुनील सोनकर

केंद्रीय श्रमिक संघों के 20 करोड़ कर्मचारी मंगलवार से 2 दिन की देशव्यापी हड़ताल पर हैं इनका आरोप है कि सरकार की नीतियां श्रमिक विरोधी है जिसके चलते इन्हें प्रदर्शन के लिए हड़ताल का कदम उठाना पड़ा ।

आपको बता दें कि वेतन बढ़ोतरी समेत श्रमिक संगठनों की 12 सूत्रीय मांगे हैं शिक्षा स्वास्थ्य टेलीकॉम कॉल तील बैंकिंग इंश्योरेंस और ट्रांसपोर्ट सेक्टर में 10 श्रमिक संगठनों के कर्मचारी हड़ताल पर हैं जिसका असर साफ-साफ पहाड़ों की रानी मसूरी में भी देखा जा रहा है ।

मजदूर संगठन के कार्यकर्ता मसूरी शहीद स्थल पर एकत्रित हुए और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करें मजदूर नेताओं ने साफ शब्दों में कहा कि यदि मार्च तक मजदूरों की मांगे पूरी नहीं होती तो पूरे देश के मजदूर एकजुट होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा को सबक सिखाने का काम करेंगे ।

इतना ही है हड़ताल पर बैंक कर्मियों द्वारा खुले हुए बैंकों को बंद करवा दिया गया मजदूर नेता मुलायम सिंह सोहन सिंह पवार और आरपी बडोनी ने कहा कि सरकार के एकतरफा सरकार और श्रमिक विरोधी नीतियों के विरोध में श्रमिक संघों ने आज से 2 दिन के भारत बंद का ऐलान किया है ।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा 2014 के चुनाव में मजदूरों के हितों में काम करने कम वेतन में बढ़ोतरी करने का वादा किया गया था परंतु पूरे 5 साल में जा रहे हैं मजदूरों के हितों के लिए किसी प्रकार की कोई नीति नहीं बनाई गई लेकिन ठीक इसके विपरीत मजदूरों का लगातार शोषण हो रहा है इस मौके पर देवी गोदियाल, चेतराम बडोनी, विरेंद्र रावत, राजेश, सोवत सिंह रावत सहित अन्य लोग मौजूद थे।

● TEAM GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Sample Dissertation on How websites Has Infected the Music Market

Sample Dissertation on How websites Has Infected the