भारतीय दलित साहित्य अकादमी के तत्वाधान में आयोजित किया गया परिनिर्वाण दिवस

भारतीय दलित साहित्य अकादमी के तत्वाधान में आयोजित किया गया परिनिर्वाण दिवस

- in अन्य
125
0

● सुनील सोनकर

भारतीय संविधान निर्माता बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर के 65वें परिनिर्वाण दिवस पर मसूरी में अंबेडकर चौक पर भारतीय दलित साहित्य अकादमी के तत्वाधान में आयोजित किया गया।

इस मौके पर अनुज गुप्ता और सभासदों के सैकड़ों लोगों ने बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर की मूर्ति पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

इस मौके पर अकादमी द्वारा नवनिर्वाचित अध्यक्ष अनुज गुप्ता और अन्य सभी नवनिर्वाचित सभासदों को शॉल भेंट कर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में मौजूद सभी स्कूली बच्चों ने बाबा साहब की जीवनी पर प्रकाश डाला और कविताओं के माध्यम से अंबेडकर जी के बताए रास्ते पर चलने का संकल्प लेने के साथ संविधान के बारे में विस्तार से बातचीत की।

अकादमी की ओर से पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता को 12 सूत्रीय मांग पत्र दिया गया जिसमें मसूरी अंबेडकर चौक का सौंदर्यीकरण चौक का अतिक्रमण से मुक्त होना पालिका में पर्यावरण मित्रों की नियुक्ति और उनको दी जाने वाली सुविधाओं को उपलब्ध कराना पटरी व्यापारियों को चिन्हित कर उनको नियमानुसार समायोजित करना आदि शामिल थे ।

जिसके बाद पालिकाध्यक्ष ने मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया । पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने अकादमी द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की और कहा कि हम सबको अंबेडकर जी के बताए हुए रास्ते पर चलना चाहिए वही एकजुटता का संदेश देते हुए देश के विकास में अपना अहम योगदान भी हमें देना होगा।

साथ ही उन्होंने कहा कि मसूरी की जनता के समर्थन और आशीर्वाद के कारण में मसूरी के बारे का अध्यक्ष बने हैं उनकी कोशिश होगी कि वह उनकी अपेक्षाओं पर खरे उतरे ।

इस मौके पर सांसद प्रतिनिधि विशाल चौहान, माधुरी टम्टा, अनीता सक्सेना, सोहन कुमार, अरविंद सोनकर, सतीश शर्मा, मनोज पाल, अनिल जाटव, दिनेश ,गगन कनौजिया, कुशाल राणा, अरविंद गोदियाल, सपना शर्मा, छात्रसंघ अध्यक्ष रविंद्र रावत, आशीष जोशी, अविनाश राणा, सोम भंडारी, आशीष, अशोक सहित बड़ी संख्या में स्कूली बच्चों के साथ अन्य लोग मौजूद थे।

● TEAM GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मसूरी छावनी परिषदों के सभासदों के बीच जमकर चले लाठी डंडे

● सुनील सोनकर मसूरी लंढौर छावनी परिशद के