लड़की बारात लेकर आयेगी युवा अधिकारी के घर , होेगा जोजोड़ा – विवाह 

लड़की बारात लेकर आयेगी युवा अधिकारी के घर , होेगा जोजोड़ा – विवाह 

सुनील थपलियाल
उत्तरकाशी ।

अपनी संस्कृती और परम्परा को कायम रखने के लिए ऊंची सोच की आवश्यकता होती है। आज के इस युग में जहंा पाश्चात्य संस्कृति ,युवाओं के सर चढ़कर बोल रही है।

वही उत्तरकाशी के नौगांव में तैनात एक युवा अधिकारी ने जौनसार की पौराणीक परम्परा एंव अपनी संस्कृती के अनुसार शादी करने का मन बनाया है जिसे जौनसार में जोजोड़ा कहते है और इस परम्परा के अनुसार शनिवार को लड़की बारात लेकर युवा अधिकारी के घर आ रही हैं ।
मालूूूम हो कि उत्तराखण्ड के पहाड़ी क्षेत्र में अपनी अपनी संस्कृति और परम्परा है । नौगांव ब्लाक में उपशिक्षाधिकारी के पद पर तैनात अमित  मुलरूप से जौनसार के रहने वाले है और अधिकारी बनने के बाद अधिकत्तर युवाओं की सोच धुमधाम से बारात के साथ लड़की के घर जाने का रीति रिवाज बना हुआ है।

लेकिन अमित चौहान ने अपनी पौराणीक परम्परा और संस्कृति के अनुसार अपनी शादी करने का मन बनाया जो आज के युवा अधिकारियों एंव नौकरी करने वाले युवाओं के लिए नजीर है।

अमित पुत्र  चंचल सिंह चौहान निवासी ग्राम थेत्योउ खत समाल्टा तहसील कालसी जिला देहरादून के मुल निवासी है। अमित बारात लेकर नही जा रहे है बल्कि लड़की दीक्षा निवासी चकराता जिला देहरादून अमित के गांव बारात लेकर आ रही है।

जो आज के पाश्चात्य संस्कृती की ओर भाग रहे युवाओं के लिए एक सीख भी है। कहते है कि जौनसार में लड़की बारात लेकर आये तो उसे जोजोड़ा कहते है। और अमित की शादी करने का अन्दाज यमुनाघाटी में चर्चा का विषय बना हुआ है। सभी कहते नही थक रहे है कि अधिकारी होकर बारात लेकर लड़की के घर नही गये बल्कि लड़की की बारात अपने गांव बुलवा दी।

जानकारी के अनुसार जोजोड़ा (शादी) में लड़के पक्ष से दो या तीन ग्रामीण लड़की को लेने जाते है और जब लड़की की डोली बारात के साथ तीन सौ से अधिक या क्षमतानुसार लड़की के साथ बाराती आते है। लड़के के गांव में कन्या के साथ सात फेरे किये जाते है उस समय गांव में रात भर उत्सव का माहौल बना रहता है और शादी का पुरा खर्चा लड़के पक्ष को उठाना होता है। अमित चौहान   को इस चकाचैन्द युग में अपनी पौराणीक संस्कृती अनुसार शादी करने की सोच को दिल से सलाम करते है और जो आज के युवाओं को नजीर लेने के लिए सबसे बड़ा उदराहरण भी है।

  • Ground0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

50 से अधिक भेड़ों की मौत ,दर्जनों घायल , उपचार में जुटा पशु चिकित्सा विभाग

बड़कोट। अपर यमुना वन प्रभाग कार्यालय के पास