घांघरिया:भ्यूंडार घाटी में खिला राज्य पुष्प ब्रह्मकमल

घांघरिया:भ्यूंडार घाटी में खिला राज्य पुष्प ब्रह्मकमल

- in अन्य
202
0

• संजय कुंवर जाेशीमठ
उत्तराखंड के चमाेली जिलें में स्थित खूबसूरत भ्यूंडार घाटी के अटला काेटी,लाेकपाल है़ेंमकुंड साहिब के पैदल मार्ग पर दाेनाें तरफ इनदिनाें राज्य पुष्प ब्रह्मकमल खिल चुका है। इस दिव्य पुष्प की खुश्बु से पूरी भ्यूंडार घाटी महक रही है। लाेकपाल हेंमकुंड की यात्रा करने आये तीर्थयात्रियाें एंव देशी विदेशी पर्यटकाें काे इस रूट पर दुर्लभ राज्य पुष्प ब्रह्मकमल का आकर्षण लुभा रहा है।सिसूरिया आब्लेटा नाम का यह पुष्प पर्यटकाें काे लाेकपाल तीर्थ की खडी चढाई की थकान तक मिटा दे रहा है।

उच्च हिमालयी क्षेत्रों में खिलने वाला ब्रहमकमल का फूल सफेद हल्के पीले रंग का होता है। यह उत्तराखंड का राज्य पुष्प भी है। एक साथ कई क्षेत्र में खिले होने के चलते इसकी खूबसूरती और भी बढ़ जाती है। इस पुष्प का वान्सपतिक नाम साेसेरिया औब्लेटा है।जो स्वीडन के वैज्ञानिक डी०सोसेरिया के नाम पर रखा गया। भारत में इसकी 61 प्रजातियां हैं। इनमें से अकेले उत्तराखंड में इस पुष्प की 58 प्रजातियां मौजूद हैं।

यहां पाया जाता है ब्रह्मकमल
पंचकेदार, पांगरचुला,भनाई,कागभुषंडी, सहस्रताल, नंदीकुंड, केदारनाथ, फूलों की घाटी, हेमकुंड साहिब, सतोपंथ ऋषिकुंड,देंवागन डयाली सेरा आदि स्थानों पर यह दिव्य पुष्प खिलता है।वही जापानी पर्यटकाें काे यह पुष्प काफी लुभा रहा है,समुद्रतल से करीब 13हजार फिट से ऊपर उगनें वाला यह दिव्य पुष्प अपनें औषिधीय गुणाें के चलते काफी लाेकप्रिय है,यह माह जुलाई से सितम्बर तक के समय ही उच्चहिमालय में दिखता है।

TEAM GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मसूरी छावनी परिषदों के सभासदों के बीच जमकर चले लाठी डंडे

● सुनील सोनकर मसूरी लंढौर छावनी परिशद के