ये महीने होने वाले हैं औली के लिए कुछ ज़्यादा ही खास

ये महीने होने वाले हैं औली के लिए कुछ ज़्यादा ही खास

- in अन्य
81
0

● संजय कुंवर

हिम क्रीडा स्थल के नाम से देशभर में पहचान रखने वाली ओली के लिए एक और खुशखबरी है जी हां यदि इस बार होली की प्राकृतिक ढलान में दिसंबर जनवरी माह में अच्छी बर्फबारी होती है तो यहां उत्तराखंड विंटर गेम्स एसोसिएशन दूसरी दफा साउथ एशियन विंटर गेम्स के आयोजन को लेकर सक्रिय होगा।

इसके अलावा यदि औली में समय पर बर्फबारी के साथ अन्य मूलभूत सुविधाएं तैयार हो जाती है तो औली में वर्ष 2010 11 के बाद दोबारा किसी बड़े अंतरराष्ट्रीय स्तर के विंटर गेम्स की मेजबानी मिलेगी जो औली ही नहीं पूरे देश के लिए एक बहुत बड़ी खबर होगी।

आपको बता दें कि औली एक अंतरराष्ट्रीय शीतकालीन पर्यटन नगरी है साथ ही यह विंटर गेम्स के लिए पूरे भारतवर्ष में सबसे पसंदीदा स्थान है।
यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर स्किइंग प्रतियोगिताओं के आयोजन के लिए हर प्रकार की सुविधाएं मौजूद है।
1400मीटर के लंबे प्राकृतिक की स्की ढलान ओ पर पहले भी साल 2010 11 में  विंटर गेम्स का सफल आयोजन हो चुका है।
पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व आईएएस एसएस पांगती ने बताया कि औली में इस बार अच्छी बर्फबारी की आस जगी है।
जिसको लेकर विंटर गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया सहित प्रदेश के शीतकालीन खेल महासंघ ने मिलकर प्रदेश सरकार को ओनली में नेशनल जूनियर विंटर गेम्स सहित द्वितीय सैफ विंटर गेम्स के आयोजन का प्रस्ताव सरकार के समक्ष आता है और सरकार ने भी हर संभव मदद की बात कही है।
ऐसे में इन खेलों के लिए पहले चरण के रोडमैप तैयार करने के बाबत विंटर गेम्स एसोसिएशन ने भी कमर कस ली है फिलहाल ओनली में लगे कृत्रिम बर्फ बनाने के उपकरण सहित अंतरराष्ट्रीय नंदा देवी स्किइंग सलोप केस उदारीकरण और क्रॉस कंट्री रेस के श्लोक के बेहतरी करण के लिए संबंधित कार्यदाई संस्था से बात की जा रही है।
इसके अलावा विंटर गेम्स फेडरेशन के उच्चाधिकारी हर्ष मणि व्यास कहते हैं कि हमने अली का स्थलीय निरीक्षण कर लिया है यहां आर्टिफिशियल स्नो से लेकर तमाम उपकरणों को खरीदने के बाद अब स्की सलोप पर और बेहतर काम की जरूरत है।
साथ ही उनका कहना था कि वे तैयारी पर जुड़ चुके हैं और सरकार उनका पूरा साथ दे रही है।

● TEAM GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अज्ञात बीमारी भेड़ पालकों पर भारी

● सुनील थपलियाल उत्तरकाशी ।बड़कोट डी. एफ. ओ.