10 वर्षों से पक्की नही हो पाई दो किलोमीटर सड़क

10 वर्षों से पक्की नही हो पाई दो किलोमीटर सड़क

 

बड़कोट — उत्तराखंड में राज्य बनने के बाद से जो भी सरकार आई विकास के दावे करने में कोई भी पिछे नही रहे। हर पल विकास के दावे करने वाले नेताओं व सरकारों के कामों का यदि धरातल पर आंकलन करें तो विकास के दावे बेमानी लगते हैं।यदि मूलभूत सुविधाओं के विकास की बात की जाय तो सड़कों का किसी क्षेत्र या गांव के विकास में अहम योगदान होता है।लेकिन यहाँ सरकारें व सम्बन्धित बिभाग सड़कें खोदकर उनको कीचड़ में तब्दील होने को छोड़ देते हैं।
ऐसी ही एक सड़क नौगांव विकास खण्ड के बनाल क्षेत्र की है।जिसकी लम्बाई मात्र दो किलोमीटर की है।लेकिन डामरीकरण व विस्तारीकरण न होने से इस मोटर मार्ग पर बरसात में वाहनों का चलना तो छोड़ो पैदल भी नही चला जा सकता।यह मोटर मार्ग गडोली-जेष्ठवाड़ी के नाम से है।इसका निर्माण लोक निर्माण विभाग द्वारा 10 वर्ष पूर्व किया गया था।लम्बाई मात्र दो किलोमीटर, लेकिन 10 वर्षो में सम्बन्धित बिभाग दो किलोमीटर सड़क को पक्का नही कर पाया है।इस सड़क पर ग्राम सिन्ना, छिटी, जेष्ठ वाड़ी गांव पड़ते हैं।ग्रामीण पूर्ण चन्द, उप प्रधान सन्तोष कुमार, परवीन शाह, जीतमल, श्रीमती मायादेवी, विनोद चन्द बताते हैं कि लोक निर्माण विभाग को कई बार लिखित व मौखिक रूप से सड़क का डामरीकरण करने को कहा गया लेकिन दस वर्षों से मात्र दो किलोमीटर सड़क डामरीकरण के लिए बजट का रोना रोया जा रहा है।अब ग्रामीणों ने एक बार फिर क्षेत्रीय विधायक से सड़क डामरीकरण के लिए बजट उपलब्ध करवाने की गुहार लगाई है।ग्रामीणों का कहना है कि कच्ची सड़क पर गहरे गढ़े होने के कारण बरसात में पानी भर जाता है जिससे सड़क पर चलना दूभर हो जाता है।वही उपरोक्त मोटर मार्ग के सम्बंध में जब सम्बन्धित बिभाग से सम्पर्क किया गया तो उनका कहना था कि विस्तारीकरण व डामरीकरण के लिए 90 लाख रुपये का इस्टीमेट शासन को 21 अगस्त2017 को भेजा गया है।जैसे ही बजट स्वीकृत होगा कार्य करवाया जाएगा।

TEAM GROUND 0.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

किसानों के चेहरे की रौनक छीन रही बेमौसम बारिश

• नीरज उत्तराखंडी पुरोला। बीते शुक्रवार से हो