उत्तरकाशी : रिश्ते करने से कतराते है लोग,बुनियादी सुविधाओं का टोटा है कारण

उत्तरकाशी : रिश्ते करने से कतराते है लोग,बुनियादी सुविधाओं का टोटा है कारण

मोरी ब्लॉक् का सालरा गाव

सुनील थपलियाल
उत्तरकाशी ।

मोरी ब्लाक का सालरा गांव जंहा आज भी लोग रिश्ता करने से कतराते है , आजादी के बाद से लगभग आधा दर्जन गांव के ग्रामीण बुनियादी सुविधाओं के अभाव में जीने को मजबूर है ।

राशन को पीठ पर गंाव तक पहुंचाना और बीमार होने पर अस्पताल तक मरीज को पहुंचाना टेडी खीर बना हुआ है। कई सरकारें उत्तराखण्ड में आई और गई परन्तु मोटर मार्ग का सपना महज आज भी पहेली बना हुआ है।

ग्रामीणों कई बार मुख्यमन्त्री को पत्र लिखकर बुनियादी सुविधाओं को उपलब्ध कराने की मांग भी कर चुके है। बावजूद मोरी ब्लाक के दर्जनों गांव में आज भी सुविधाओं का अभाव बना हुआ है।
मालुम हो कि सीमान्त ब्लाक मोरी का सालरा गांव के ग्रामीण आज भी ब्लाक मुख्यालय से 16 किमी अति दुर्गम रास्ता पैदल तय करके आवाजाही करते है।

बुनियादी सुविधाओं के अभाव में लोग अब यंहा से रिश्ता करने से कतराते है। इतना ही नही ग्राम सभा सालरा के अन्तर्गत लगभग 60 परिवारों का ग्राम खाड़ी के ग्रामीण 17 किलोमीटर का पैदल रास्ता तय करते है ।

जबकि ब्लाक मुख्यायल से ग्राम बनवाण गांव 10 किमी दूर , बदाउ गांव 8 किमी और राजू गांव के लिए 7 किमी दूरी तय करके ग्रामीणों को आवाजाही करनी पड़ती है।

ग्रामीण धनेश चैहान , अनिल रावत , प्रदीप सिंह , कनिष्ट प्रमुख अतर सिंह , संजू चैहान, विजय सिंह , सुभाष रावत आदि कहते है कि आजाद भारत में हम लोग आज भी आजाद नही है , मोरी ब्लाक से लगें सालरा गांव , खाड़ी गांव , बनवाण गांव , बदाउ गांव और राजू गांव के लिए आज तक रोड़ स्वीकृत नही हो पायी ।

इतना जरूर रहा कि उत्तर प्रदेश के समय 1996 में सालरा गांव के लिए रोड़ का सर्वे हुआ था और उत्तराखण्ड बनने के बाद 2013 में मोटर मार्ग के लिए सर्वे हुआ लेकिन वह सिर्फ सर्वे तक सीमित रह गया।

ग्रामीणों का कहना है आजादी के 70 दशक बीतने के बाद भी बुनियादी सुविधाओं के अभाव मंे यहां के आधा दर्जन गांव के लगभग 450 परिवार जीने को मजबुर है।

अब तो स्थिति ये हो गयी है कि आसानी से कोई यहां हमारी बेटियों से रिश्ता करने को भी नही आते है। ग्रामीणों ने कहा कि अगर कोई ग्रामीण बीमार हो जाता है उसकेा डण्डी के सहारे मोरी अस्पताल तक लाना होता है और राशन तो पीठ पर पंहुचाना हमारी आदत में सुमार हो चुका है।

उन्होने उत्तराखण्ड के मुख्यमन्त्री सहित स्थानीय विधायक से बुनियादी सुविधाओं को उपलब्ध कराने की मांग करते हुए मोटर मार्ग जल्द बनाने की गुहार लगाई है।

पुरोला विधायक राजकुमार ने दूरभाष पर बताया कि सालरा गांव सहित अन्य गांव के लिए मोटर मार्ग का आंगणन तैयार कर जल्द स्वीकृत कराने का प्रयास किया जायेगा साथ ही अन्य मुलभूत सुविधाओं को लिए कार्य किया जा रहा है।

  • Ground0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

There occurs a unique part of a partnership just where you have to choose whether or not you’ll create your partner to your family and friends

As soon as you get butterflies at thinking