जानिए आखिर 16 साल बाद किसके आने वाले हैं अच्छे दिन

जानिए आखिर 16 साल बाद किसके आने वाले हैं अच्छे दिन

आखिरकार 16साल बाद आयेंगे इस नये पुल के अच्छे दिन.

निर्माण संबंधी जांच हुई पूरी, मिली क्लीन चिट.

पांच दशक पुराने पुल का चीन सीमा पर आवाजाही के लिए होता है प्रयोग.

संजय कुंवर,जाेशीमठ,
देश के चीन तिब्बत बार्डर काे भारतीय सीमा से जाेड़नें वाले एकमात्र सरहदी अति संवेदनशील सुराईथाेटा पुल के एकबार फिर से अच्छे दिन आनें की उम्मीदें जगनें लगी है,जी हां IIT कानपुर नें इस पुल के निर्माण सम्बंधी जांच पूरी कर इसे क्लीन चिट दे दी है। दरअसल इस पुल के स्ट्रक्चर सहित गुणवत्ता काे लेकर पुल िनर्माता एजेंसी और BRO के मध्य विवाद हाे गया था जिसका परिणाम ये हुआ कि विगत 16सालाें से इस पुल का निर्माण अधर में लटका हुआ था ।

पुल निर्माणदायी संस्था और बीआरओ के बीच पुल के डिजाईन काे लेकर लम्बा विवाद चल रहा था, जिसकाे देखते हुये बीआरओ नें धाैली नदी पर बन रहे इस पुल के डिजाईन और गुणवत्ता पर IITकानपुर से जांच करनें की गुहार लगाई थी जाे अब 16लाल बाद IITनें इसकी क्लीन चिट देकर पुल निर्माण की राह आसान कर दी है । यही नही संस्थान नें पिल संम्बंधी कई सुझाव और सुरक्षा कार्य के लिये भी बीआरओ काो लिखा है जिसकाे देखते हुये बीआरओ नें इन कार्याें हेतु जल्द टेंडर जारे करनें की बात कही है।
BROके कमांडर एसएस मक्कड़ का कहना है कि पुल के निर्माण हेतु बीआरओ और कम्पनी के मध्य संमझाैता पूरा हाे गया हैiit नें भी अपनी जांचपडताल पूरी कर तकनीकी रूप से ठीक हाेने की रिपाेर्ट दी है।
बता दें कि इस चर्चित पुल काे 1999में BROद्वारा सुराईथाेटा में धाैली गंगा पर स्वीकृती दी थी,जिसकी लागत 3कराेड थी । जब 2002-2003मेंये आधा पूरा हाे गया तब पुल की डिजाईन और गुणवत्ता पर सवाल उठनें से बीआरओ और पुल निर्माता कम्पनी में मतभेद हाे गये।तब से अबतक 5दशक पुरानें बार्डर पुल पर ही चीन सीमा पर जानें के लिये आवाजाही हाे रही है।अब इस नये पुल के बनने की उम्मीदें जगनें से चीन सीमा पर अब पक्का पुल आवाजाही हेतु मिल सकेग् और सेना के बडे भारी वाहनाें की आवाजाही भी सुचारु हाे सकेगी।

TEAM GROUND 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Sample Dissertation on How websites Has Infected the Music Market

Sample Dissertation on How websites Has Infected the